Share Market :- निफ्टी 9900 के नीचे फिसलकर बंद, सेंसेक्स 296 अंक टूटा

asबाजार में गिरावट थमने का नाम नहीं ले रही। सारे अहम स्तर ढहते जा रहे हैं। आज लगातार 5वें दिन बाजार गिरकर बंद हुए। निफ्टी 9900 के अहम स्तर के नीचे बंद हुआ। सेंसेक्स भी करीब 300 अंक टूटा है। बाजार में गिरावट चौतरफा थी। दरअसल नॉर्थ कोरिया और ईरान को लेकर तनाव बढ़ता जा रहा है। रुपये की कमजोरी और इकोनॉमी को लेकर फिक्र ने भी बाजार की चिंता बढ़ा दी है। आज के कारोबार में निफ्टी 9816 तक टूट गया था, तो सेंसेक्स 31474.6 तक लुढ़का था। अंत में निफ्टी 9870 के आसपास बंद हुआ है, जबकि सेंसेक्स 31625 के करीब बंद हुआ है।

 

मिडकैप, स्मॉलकैप शेयरों में जैसे कोहराम मचा हुआ है। बीएसई का मिडकैप इंडेक्स 1.2 फीसदी लुढ़ककर 15440 के नीचे बंद हुआ है। निफ्टी का मिडकैप 100 इंडेक्स 1.3 फीसदी की कमजोरी के साथ 18,150 के करीब बंद हुआ है। बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स 2 फीसदी गिरकर 16000 के नीचे फिसलकर बंद हुआ है।

 

बैंकिंग, ऑटो, एफएमसीजी, आईटी, मेटल, फार्मा, रियल्टी, कैपिटल गुड्स और ऑयल एंड गैस शेयरों में जमकर बिकवाली देखने को मिली है। बैंक निफ्टी करीब 1 फीसदी गिरकर 24,165 के स्तर पर बंद हुआ है।

 

निफ्टी के पीएसयू बैंक इंडेक्स में 0.9 फीसदी, ऑटो इंडेक्स में 1.1 फीसदी, एफएमसीजी इंडेक्स में 1 फीसदी, आईटी इंडेक्स में 0.6 फीसदी, मेटल इंडेक्स में 1.2 फीसदी और फार्मा इंडेक्स में 1.8 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। बीएसई के रियल्टी इंडेक्स में 3.5 फीसदी, कैपिटल गुड्स इंडेक्स में 1.6 फीसदी और ऑयल एंड गैस इंडेक्स में 0.7 फीसदी की कमजोरी आई है।

अधिक जानकारी के लिए हमारी साइट पर जाएँ www.marketmagnify.com मिस्ड कॉल करे :- 7879881122.

Gold futures slide on weak global trend

Gold futures were trading lower during the afternoon trade in the domestic market on Monday as participants cut down their bets amid a weak global trend. Analysts attributed the fall in prices to trimming of positions by participants, tracking a weak trend in the global market, as the US dollar firmed up and the euro edged lower on political developments in Germany.

 

At the MCX, gold futures for October 2017 contract is trading at Rs 29518 per 10 grams, down by 0.23 per cent, after opening at Rs 29510, against a previous close of Rs 29585. It touched the intra-day low of Rs 29510.

For More information visit our site www.marketmagnify.com or missed call 7879881122

 

केंद्र ने पेट्रोलियम उत्पादों पर अप्रत्यक्ष करों से कमाए 2.67 लाख करोड़

ie-dark-days-ahead-for-crude-oil2कच्चे तेल के दामों में कमी आ रही है, वहीं हमारे देश में पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों में इजाफा हो रहा है। इससे आम आदमी की जेब हल्की हो रही है, मगर सरकार का खजाना भर रहा है। बीते वित्तीय वर्ष में कई बार अप्रत्यक्ष करों में की गई बढ़ोतरी से सरकार के खजाने में बीते वित्तीय वर्ष में 2.67 लाख करोड़ रुपये की रकम आई है। यह अपने आप में रिकॉर्ड है।

राजस्व विभाग के अधीन आने वाले डायरेक्ट्रेट जनरल ऑफ सिस्टम एंड डाटा मैनेजमेंट (डीजीएसडीएम) द्वारा मध्य प्रदेश के नीमच जिले के सामाजिक कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ को उपलब्ध कराए गए आंकड़ों से पता चलता है कि पेट्रोलियम उत्पादों पर अधिरोपित किए गए अप्रत्यक्ष करों (केंद्रीय उत्पाद और आयात व सीमा शुल्क) से सरकार को भारी आमदनी हुई है।

 

गौड़ ने सूचना के अधिकार के तहत विभाग से पूछा था कि वर्ष 2012-13 से 2016-17 तक पेट्रोलियम उत्पादों पर लगने वाले केंद्रीय शुल्क से कुल कितने राजस्व (आय) की प्राप्ति सरकार को हुई है। इस पर विभाग ने जो जवाब दिया है, वह बताता है कि पेट्रोलियम उत्पादों से सरकार को वित्तीय वर्ष 2016-17 में 2.67 लाख करोड़ रुपये की आय हुई है, जबकि वर्ष 2012-13 में राजस्व की प्राप्ति 98,602 करोड़ रुपये ही थी।

 

विभाग के जवाब के मुताबिक, पेट्रोलियम उत्पादों के करों से वर्ष 2013-14 में एक लाख 4,163 करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ था, जो वर्ष 2014-15 में बढ़कर एक लाख 22,926 करोड़ रुपये हो गया। इसके बाद वर्ष 2015-16 में यह आंकड़ा बढ़कर दो लाख 3,825 करोड़ रुपये हो गया। फिर तो 2016-17 में पेट्रोलियम उत्पादों से मिले राजस्व का आंकड़ा दो लाख 67 करोड़ रुपये पर पहुंच गया।

अधिक जानकारी के लिए हमारी साइट पर जाएँ www.marketmagnify.com मिस्ड कॉल करे :- 7879881122.

Indian rupee opens lower at 64.84 per dollar

100-rupees-noteThe Indian rupee opened lower by 5 paise at 64.84 per dollar on Monday versus 64.79 Friday.

Pramit Brahmbhatt of Veracity said, “Weak cues from equity market and concerns about growth on the domestic front will keep the rupee under pressure.”He further added, “We expect the USD-INR pair to trade in a range of 64.80-65.20 for the day.”

The euro slipped in early trading after Germany’s election showed surging support for a far-right party that left chancellor Angela Merkel scrambling to form a governing coalition.Political uncertainty also took a toll on the New Zealand dollar after no single party won a majority in an election over the weekend.

While the yen weakened – helped by renewed hope for Prime Minister Shinzo Abe’s economic stimulus as he is expected to announce a snap election, to be held on October 22.

According to Motilal Oswal currency report, upside for the USD-INR pair could be capped in today’ session after the RBI increased corporate bond limit by Rs 44,000 crore. For the day, the pair is expected to quote in the range of 64.80 and 65.20.

For More information visit our site www.marketmagnify.com or missed call 7879881122.